Connect with us

Stories

Majedar Hindi Story Murkh Ghasiram | मूर्ख घासीराम

Published

on

majedar hindi story murkh ghasiram

Majedar Hindi Story मूर्ख घासीराम – हरिपुर गांव में एक ऋषि  रहा करते थे। गांव के सारे लोग उनको गुरुदेव कह कर बुलाते थे। गाँव में एक घासीराम नामक एक युवक  रहता था। वह बहुत ही बेवकूफ और मूर्ख था। गांव वाले उसकी मूर्खता छुड़ाने के लिए गुरुदेव जी से अनुरोध किये। गुरुदेव गांववालों के बात रख कर घासीराम को शिष्य बना लिया।

पास वाले गांव में मकर संक्रांति का मेला लगता है।  मेले के साथ साथ यज्ञ का भी आयोजन  किया गया है। यज्ञ में भाग लेने के लिए गुरुदेव ने मन बनाये।

घासीराम ने बैलगाड़ी ठीक किया। बैलगाड़ी के उपर गुरुदेव के सारा सामान लादा गया। सामान यानी कुछ कपडे, गीता भगवत पुराण, पूजा की सामान और कमंडल बस इतना ही। गुरुदेव ने बैलगाडी पर बैठे। घासीराम गाड़ी चलाना शुरू किया।

गुरुदेव जी को थोडा थोडा नींद आ रहा था उन्होंने घासीराम को बोला  “ में सोने के लिए जा रहा हूँ । देखना कोई भी सामान गिर ना जाये। फिर उसके बाद गुरुदेव जी सो गये । घासीराम गाड़ी चला रहा था। कुछ समय बाद  गुरुदेव जी का कमंडल निचे गिर के लुढ़क गया। घासीराम ने गाड़ी को रोका और कमंडल को कुछ देर देखा फिर बैलगाड़ी को लेकर आगे की ओर चला।

आधे घंटे के बाद गुरुदेव ने  थोडा सा आँख खोल के देखा घासीराम बड़े आराम से गाड़ी चला रहा है। गाड़ी भी ठीक-ठाक चल रहा है। गुरुदेव जी ने पुछा सब ठीक है तो? मूर्ख घासीराम ने बोला  “सब ठीक है पर आप का कमंडल रास्ते में गिर गया है।”

गुरुदेव ने पुछा – “तुम उसको उठा के लाए हो या नहीं।“  घासीराम ने बोला – “में उठा के लाने वाला था पर आपका आदेश  याद आ गया। आपने केवल देखने को लिए कहा था । कमंडल गिर जाने के बाद में उसको देखा और उसके बाद गाड़ी चलाने लगा।”

मूर्ख घासीराम के बात सुनकर  गुरुदेव हँसने लगे । बोले “इस बार जो कुछ भी निचे गिर जायेगा  सब उठा के ले आना।  जाओ पहले कमंडल वापस ले कर आओ।“ घासीराम ने गाड़ी रोक कर कमंडल वापस लेने के लिए गया । गुरुदेव फिर सोने चले गए।

कुछ समय बीत गया । बैलगाड़ी चल रहा था। इस समय एक बैल ने गोबर कर दिया । गोबर निचे पड़ा हुआ देख कर गाड़ी को रोका। गाड़ी से निचे उतर कर दोनों हाथों से गोबर को उठा कर गाड़ी के ऊपर फेंका। गुरुदेव के ऊपर गोबर के छीटे गिरने पर उनकी नींद टूट गयी । और बोले “अरे! तुम ये क्या कर रहे हो?” घासीराम ने कहा- “आप जो बोले थे मैंने वही किया।”

गुरुदेव गुस्सा हो गये। फिर शांत मन से उसको समझाया। इस बार में जिस जिस चीज का नाम बता रहा हूँ वह अगर निचे गिर जाये तो  उठाना। दूसरा कोई भी चीज मत उठाना। उसके बाद  गाड़ी में  रखा गया एक एक चीज का नाम बोले। गुरुदेव के शरीर में लगा हुआ गोबर को कपडे से पोंछ कर फिर से सो गये।

Majedar Hindi Story मूर्ख घासीराम को आगे पढ़ें

घासीराम चीजों को मन ही मन याद कर रहा था। कुछ चीज गिर गया तो नहीं, बार बार देख रहा था। उसी समय एक ऊँचा रास्ता पड़ा । रास्ता  खूब ऊंचाई  हो कर ऊपर को उठा था।  उसके पास में एक नहर था। बैल गाड़ी जब  ऊँचा रास्ता को पार कर रहा था  तब  गुरूदेव सीधे जाकर नहर में  गिर गये । घासीराम गुरूदेव जी का दिया हुआ चीजों का तालिका मन  ही मन याद कर रहा था।  लेकिन तालिका में गुरुदेव जी का नाम हि नहीं था। इसलिए घासीराम बैलगाडी को आगे की ओर ले चला।

गुरूदेव बड़े कष्ट से नहर से बहार निकले। वह एक दम से भीग गये थे। पैरो और कमर पर जख्म लगा था। बांध के ऊपर बैठ कर  घासीराम को जोर से बुलाया। आदेश पाकर घासीराम ने गाड़ी रोक कर गुरूदेव के पास आया।

गुरूदेव ने गुस्से से घासीराम के ऊपर चिलाये। “में नहर में गिर गया। डूब ने से बच गया नहीं तो मेरा मृत्यु हो जाता। मुझे ना उठा कर तुम कैसे चले जा रहे हो ?”

घासीराम ने बहुत ही नम्र भाव से कहा, “मेरा इस में कोई दोष नहीं है। आपने जो तालिका दिए थे, उस में आप का नाम ही नहीं था। आप गिर गये मेरा क्या दोष?“

गुरूदेव समझ गये की इस मूर्ख को इनसान बनाना कितना मुस्किल है। इसके बाद गुरूदेव जी ने  घासीराम को वहां से विदा कर खुद अपना सामान कन्धों पर लाद कर मकर मेला पहुँच गये।

Majedar Hindi Story ओर  भी कहानियां पढ़ें

मकर मेला तिन दिनों तक चली । यज्ञ में अच्छा प्रबंधन किया गया था। गुरूदेव जी ने यज्ञ में भाग लिया । घासीराम बात को भूल गये। मेला ख़तम होने के बाद गुरूदेव उसी रास्ते से लौट रहे थे देखा की  घासीराम तीन दिन से वहां पे ठहरा है। वापस नहीं गया है। गुरूदेव पास जा के बोले- “तुम वापस नहीं गये हो।“ घासीराम नेकहा-“ नहीं गुरूदेव में आप की प्रतीक्षा में यहाँ पे रुका हूँ।“  गुरूदेव ने पूछा-“ तुमने कुछ खाया की नहीं  इन बैलों को कुछ खिलाया  है की नहीं?”  “मैंने कुछ खाया नहीं पर इन बैलों को घास पत्तियां ला के देता था और पिने के लिए नहर का पानी देता था”-  यह घासीराम ने कहा।

गुरूदेव जी के मन में दया आई। उन्होंने सोचा की  घासीराम मूर्ख है पर  प्रभु भक्त है । जो भी हो में इसका इलाज कर के उस को ठीक करूँगा।  “घासीराम यह लो तुम्हारे लिए मिठाइयाँ लाया हूँ। जल्दी से खा कर बैलगाड़ी आश्रम की ओर ले चलो। और रास्ते में मुझे गिरा मत देना।” घासीराम ने मुसकुराया।

इसके बाद गुरुदेव ने घासीराम को वैदिक जड़ी बूटी पिलाई। योगाभ्यास करवाये प्राणायाम नित्य करवाये। माँ  सरस्वती जी के उपासना किये। जो भी ज्ञान था वह सब घासीराम को दिए। देखते ही देखते घासीराम एक साल में चतुर और विद्वान व्यक्ति का अधिकारी बन गया। अब वह चारों वेदों का ज्ञानी हो गया है।

ये भी पढ़ें …

आप को यह Majedar Hindi Story मूर्ख घासीराम पढ़ कर अच्छा लगा होगा. ज्यादा से ज्यादा कहानी आप के सामने लाने का प्रयास करूँगा . धन्यवाद

 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stories

Best hindi story Saap aur Lakdi Chor – सांप और लकड़ी चोर

Published

on

best hindi story saap aur chor

Best hindi story सांप और लकड़ी चोर

रामपुर नाम का एक छोटा सा गांव था। वह गांव देखने में बहुत खूबसूरत है। गांव के चारों ओर बड़े-बड़े पहाड़ है। यह गांव घने जंगल से घिरा हुआ है। और गांव के पूर्व हिस्से में एक तालाब में कमल फूलों से भरा है।

उस गांव में कई समुदाय के लोग रहते हैं। वे दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम कर के अपना जीवन यापन करते हैं।

एक दिन की बात है। उस गांव में दो सपेरे आए सांप का खेल  दिखाने के लिए । उन्होंने सांपों को गांव के बीच में रखा और लोगों को दिखाया। जब लोग सांप देखते हैं तो उन्हें पैसे मिलते है।

वे अपने टोकरी में कई तरह के सांप रखते हैं। ये कई प्रकार के होते हैं जैसे नाग, अहिराज, अजगर। उन सांपों में अजगर सबसे बड़ा है। उस सांप को देखकर हर कोई हैरान और डर जाता है। वे सपेरों ने एक सप्ताह तक वहीं रहें।

उस गांव में, दिलीप बाबु शहर से आये थे और एक कॉफ़ी बगीचा लगाया और वहीं रहने लगे। उन्होंने सपेरों से बात की । बातचीत के बीच में उन्होंने पूछा कि सपेरों का घर कहां है? उन्होंने कहा कि उनका गांव मणिपुर है। दिलीप बाबु के पिता का घर भी मणिपुर है ।

लेकिन उनकी पढ़ाई शहर में हुई। ये  सुनकर दिलीप बाबु बहुत खुश हुए। दिलीप बाबु एक अच्छा इंसान, दयालु, सच्चा, ईमानदार और उदार व्यक्ति हैं। उन्होंने  उन सपेरों को गांव की छोटी सी दुकान से कुछ सस्ते दाम पर सामान खरीद के दिया। सपेरें बहुत खुश हो गये।

दिलीप बाबु ने उन सपेरों से सांपों को लाकर उनके घर के पास दिखाने को  कहा। सपेरों ने जाकर उन्हें एक-एक करके दिलीप बाबू को सांप दिखाया। सांप को देखकर वह खुश हो गये। इस समय के दौरान  एक आदमी उन के पास आया और उन्होंने मजाक में कहा “सांप अकेले देख रहें हैं। क्या आप सांप खरीदेंगे?” दिलीप बाबू ने मजाक करते हुए कहा, “हां, मैंने खरीद लिया।” आदमी हैरान हो गया।

उन्होंने कहा, “क्या यह सच है, दिलीप बाबु ?” दिलीप बाबु ने कहा, “हां, यह सच है।”

“किस सांप को”? आदमी ने कहा। दिलीप बाबु ने कहा ‘अजगर सांप’।

तब वह आदमी हैरान हो कर दौड़ा। गांव में चिल्लाकर कहा कि “दिलीप बाबु ने सांप खरीद लिया ।” । गांव के लोग आश्चर्यचकित हो गये।

गांव वालों ने पुछा दिलीप बाबु क्या आपने सांप ख़रीदा है और क्या करेंगे उस सांप को ? दिलीप बाबु ने कहा में उस सांप को बगीचे में छोडूंगा।

गांववालों चिंतित थे। क्योंकि वे बगीचे में लकड़ी, पत्ते, फल, फूल आदि चुरा लेते थे, अब ऐसा नहीं हो सकेगा ! जल्द ही यह कहानी गांव भर में फैल गई।

यह बातें सबके कानों में पड़ा। हर कोई डर गया था। और कोई बगीचे में नहीं गया। इसके बाद फूल सुरक्षित रहे। लेकिन दिलीप बाबु के पिता का नौकर रामू काका इन सब बातों के बारे में जानते थे। ऐसे ही कुछ दिन बीत गए।

गांव वाले कभी-कभी रामू काका से पूछते हैं, “सांप क्या खा रहा है?”  रामू काका कहते है कि वह एक ही समय में दो मुर्गी के अंडे निगल रहा है और वापस बगीचे में चला जाता है ! वहीं एक अन्य व्यक्ति पूछता है, “क्या सांप खाली बगीचे में रहेगा?” रामू काका कहते हैं, “हां, रहेगा, वह एक मंत्र तंत्र से बंधा हुआ है।“

रामू काका ने फिर कहा “अभी सांप छोटा है। अगले दो महीनों में वह बड़ा हो जाएगा और बड़े-बड़े लोगों को भी खा जाएगा।“ इससे लोग ज्यादा डर गये।

लोगों को बहुत दुःख होता है। क्योंकि लोग बगीचे में जाकर पत्ते, फल और फूल नहीं ले सकते।

रामू काका कोई अच्छा काम नहीं कर रहे थे। देर से काम पर आते हैं और जल्दी चले जाते हैं। यह देख कर दिलीप बाबु ने एक दिन रामू काका को काम पर न आने को कहा।

Best hindi story में रामू काका ने गांव वालों से क्या कहा?

रामू काका बहुत दुखी हुए, उसने गांव में जाकर गांव वालों से कहा कि सांप को छोड़ने की बात झूठ है। गांव वाले इसे झूठ समझकर रोज बगीचे में जाते थे। एक दिन पांच लोग रात को बगीचे में गये और सोचा कि ‘पेड़ काटकर लाया जाए।’

वे सभी पेड़ को काटने में व्यस्त थे। धीरे-धीरे एक अजगर सांप आया और एक के पैर को दबोच लिया। आदमी ने जोर से चिल्लाया। रात में किसी को कुछ नजर नहीं आता। हर कोई उसके पास पूछने के लिए दौड़ा कि क्या हुआ ! आदमी सांप सांप चिल्लाता है ।

रात के समय कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। उन्होंने जाकर सांप को कुल्हाड़ी से घायल कर दिया। सांप उस आदमी को छोड़ दिया। फिर भी वह आदमी सांप सांप चिल्ला रहा था। उसे देखकर हर कोई हैरान रह गया। उन्होंने सोचा, “हम चोरी करने क्यों गये थे।”

लकड़ी चोरों ने वहाँ से लौट कर रामू काका को पीटने लगे। चोरों ने पूछा, “रामू काका ने सांप न होने के बारे में झूठ क्यों बोला?” यह सुनकर रामू काका आश्चर्यचकित रह गये ! मैंने गांव वालों को अपने मालिक के नाम से क्यों झूट बोला?

रामू काका रात में धीरे-धीरे दिलीप बाबु के घर गये और दरवाजा  खटखटाये। दिलीप बाबु उठे और दरवाज़ा खोला! रामू काका “तुम्हें क्या हुआ”? रामू काका ने सब कुछ कहा। दिलीप बाबु ने मन में सोचा, ‘ईश्वर जो करते हैं वह प्राणियों के कल्याण के लिए करते हैं’ और घर के अंदर चले गए।

तब गांव के लोगों ने यह निर्णय लिया कि “वह किसी की बगीचे से कुछ नहीं चुराएंगे ।” जो मेहनत की कमाई होगी, वही खा कर खुश रहेंगे।”

उस दिन से रामपुर गांव में कुछ भी नहीं खोया। सभी खुश थे।

Best hindi story सांप और लकड़ी चोर की शिख –  खुद मेहनत करके कमाना सीखो,  चोरी करना मुसीबत को घर लाने जैसा है 

यह भी पढ़ें . . .

उमीद करता हूँ की आप को यह कहानी अच्छी लगी होगी। इस कहानी को शेयर करें, फेसबुक पेज लाइक करें और कमेंट करें। Best hindi story  “सांप और लकड़ी चोर” का सुबिचार जरुर रखें।

Continue Reading

Stories

Satya Yug ki Kahani – सत्य युग की कहानी

Published

on

satya yug ki kahani -bramha and narad muni

Satya Yug ki Kahani – सत्य युग की कहानी  :  यह कहानी सत्य युग की समय का है । पुराण युग के बारे में सुनकर हमें जितनी खुशी होती है उतनी ही हैरानी भी होती है। अतीत में, पहाड़ों के पंख होते थे। यह एक कहानी बताता है कि यह अब कैसे गायब हो गया है।

एक बार ब्रह्मा आसन पर बैठे हुए नरलोक के बारे में सोच रहे थे। इसी समय नारद ने ब्रह्मा जी के पास पहुँचे। वह ब्रह्मा जी के पास गये और बोला, “पिताजी! मेरा प्रणाम स्वीकार करें।”

ब्रह्मा जी  ने आशीर्वाद देते हुए कहा, “बस! आने का अभिप्राय क्या है ?” नारद जी ने कहा, “भगवान्, आप सृष्टि के रचयिता हैं, लेकिन इस सृष्टि में कुछ अपवाद भी हैं, जो बहुत कुरूप हैं।”

नारद की यह बात सुनकर ब्रह्मा जी थोड़ा परेशान हुए और बोले, ‘बताओ वह क्या है?’ जब सृष्टि प्रारम्भ हुई तो कौन कहाँ रहेगा इसकी सूची तैयार करने के लिए विश्वकर्मा को देवलोक, नरलोक और पाताललोक भेजा गया था।”

ब्रह्मा जी की यह बात सुनकर नारद जी बोले- “मैं उस सूची के बारे में बात करने नहीं आया हूँ।”

एक दिन मैं नरलोक गया और वहां जो कुछ हुआ उसे देखकर कोई एक क्षण भी नहीं रुक सकता। यह सुनकर ब्रह्मा जी बोले, ‘क्या समस्या है बताओ, उसका निवारण किया जाएगा।’

नारद जी ने कहा, भगवन्! इतनी बड़ी-बड़ी कठोर चट्टानों और पेड़ों से युक्त पहाड़ों के शरीर पर पंख लगे हुए हैं, इसलिए वे उड़ रहे हैं और गाँवों और कस्बों पर बैठ रहे हैं। यह सब कुछ नष्ट कर देता है ।

एक दिन जब मैं आकाश की ओर जा रहा था तो एक पहाड़ उड़ता हुआ आया और मुझ  से टकरा गया। नतीजा यह हुआ कि मैं बेहोश हो गया ।

मैं कैलाश पर्वत पर जा गिरा । उस दौरान शिव जी तपस्या में बैठे थे। शिव जी ने अपनी तपस्या पूरी की और कमंडल पानी से मुझे बचाया।

Satya Yug ki Kahani में ब्रम्हा जी ने क्या किया

तब ब्रह्मा जी ने कहा, ‘क्या आप जानते हैं कि पर्वत को पंख क्यों दिए गए थे? लोगों की भलाई के लिए काम करने को पंख दिये गये. जब एक क्षेत्र के लोगों ने घर बनाने के लिए उस पहाड़ से पत्थर, लकड़ी, मिट्टी और शरीर के लिए औषधीय जड़ी-बूटियाँ ले जाने से लाभ उठाया जा सके। उन्होंने वह स्थान छोड़ कर  और अन्य लोगों की मदद करने के लिए जाते थे ।  लेकिन ये तो बेतरतीब से घूम रहे हैं।’

यह सोचकर ब्रह्मा जी को कोई और रास्ता नहीं सूझा। उन्होंने तुरंत इंद्र को बुलाया और कहा, “तुम वज्र मार के पर्वतों के पंख काट दो।”

ब्रह्मा की यह बात सुनकर इन्द्र ने वज्र से पर्वतों के पंख काट दिये। उस दिन से वे कहीं और उड़ नहीं सके।

 यह भी पढ़ें  . . .

उमीद करता हूँ की आप को यह कहानी अच्छी लगी होगी। इस कहानी को शेयर करें, फेसबुक पेज लाइक करें और कमेंट करें। Satya Yug ki Kahani – सत्य युग की कहानी का सुबिचार जरुर रखें।

Continue Reading

Stories

Best Moral Hindi Story Santon ki Pariksha – संतों की परीक्षा

Published

on

best moral hindi story - three saint

Best Moral Hindi Story-संतों की परीक्षा –   बहुत पुरानी कहानी है। देवपुरी राज्य में एक आश्रम था। उस आश्रम में तीन साधु रहते थे। पहले संत का नाम संत रामदास था। दूसरे संत का नाम संत रामेश्वर  और तीसरे का नाम संत चिदानंद था।

संत रामदास और संत रामेश्वर हमेशा झगड़ते रहते थे। संत रामदास कहते थे कि वे सर्वश्रेष्ठ संत हैं। संत रामेश्वर भी कहते थे कि वे सर्वश्रेष्ठ संत हैं। लेकिन साधु चिदानंद उन्हें हमेशा समझाते थे। वे कहते थे कि इस संसार में संत ही सर्वश्रेष्ठ हैं।

यह सुनकर संत रामदास और संत रामेश्वर हंस पड़े और बोले – ‘क्या बात कर रहे हो चिदानंद? यदि आप अपने नाम के आगे संत शब्द लगाएंगे तो क्या आप हमारे जैसे संत हो सकते हैं? स्वयं को धार्मिकता सिद्ध करना आपकी कमजोरी है। दोनों संतों की बातें सुनकर संत चिदानंद ने कहा- ‘संत बनने के लिए ‘साधु’ शब्द का प्रयोग ही काफी नहीं है। अपने कर्तव्य के प्रति निष्ठा और सही कर्तव्य ही धर्म है।

Best Moral Hindi Story  की अन्य कहानियां

तीनों संतों की बातें स्वयं भगवान विष्णु ने सुनीं। एक दिन भगवान विष्णु तीनों संतों की परीक्षा लेने के लिए देवपुरी आश्रम में आये। भगवान स्वयं सामान्य रीति से आश्रम में आये।

उन्होंने कहा- मैं दिशाहीन पथिक हूँ । रास्ता भटक गया हूँ और इस आश्रम में पहुंच गया। तीनों ऋषियों ने कहा-यह हमारा सौभाग्य है। सेवा ही हमारा धर्म है। तुम आओ अपने हाथ-पैर धो लो और थोड़ा ठंडा पानी पी लो। तुम आराम महसूस करोगे।

संत रामदास पथिक को वापस अपनी कुटिया में ले गये। भगवान विष्णु ने कुछ देर वहीं विश्राम किया। तब संत रामदास ने कहा- पथिक महोदय, आपको भूख लगी होगी। हमारे आश्रम में तीन आम के पेड़ हैं और वह बहुत मीठे हैं। आइए भूख मिटाने के लिए आम खाएं।

तीनों संत और पथिक आश्रम के बगीचे में पहुंचे। संत रामदास एक बड़ा बांस लेकर आए और अपने आम के पेड़ की शाखाओं को पीटने लगे। पेड़ से आम गिरने लगे। पथिक ने एक आम उठाकर खाया और बोला- आप मेरे लिए मेहनत से आम तोड़े लेकिन आप के  पेड़ के आम इतने मीठे नहीं लगे।

तभी संत रामेश्वर एक बड़ी रस्सी लेकर आए और आम के डालीयों फांद कर वह उस रस्सी से अपने पेड़ की शाखाओं को हिलाने लगे। आम झड़ने लगे। पथिक ने आम उठाकर खा लिया। उसने कहा- मैं यह आम नहीं खा सकता। ये आम भी उतना मीठा नहीं है।

तब साधु चिदानंद अपने आम के पेड़ के पास गये। बड़ी कठिनाई से आम के पेड़ पर चढ़े। कुछ देर बाद अच्छे अच्छे  दो आम लेकर आम के पेड़ से नीचे उतरे।

संत रामदास और संत रामेश्वर ने उनसे कहा- तुम कितने मूर्ख हो। पथिक को आम खिलाने के लिए इतना समय लगा दिया ।  साधु चिदानंद ने कहा- यह आम का पेड़ मैंने अपने हाथों से लगाया है। मैं इसे आपकी तरह बांस से पिट पिट कर कष्ट देना नहीं चाहता था। एक को कष्ट देकर दूसरे को ख़ुशी नहीं दी जा सकती। और मैं अपने पेड़ का गला रस्सी से नहीं घोंट सकता। वह ऐसे दर्द देने की बजाय मेहमान को पानी पिलाकर संतुष्ट करना चाहिए । मैं स्वयं आम के पेड़ पर चढ़ गया और दो पके आम ले आया।

आम पथिक को जरूर खाने चाहिए। भगवान विष्णु ने दो आम खाये। उसने कहा- इस आम के पेड़ के आम बहुत मीठे हैं। ऐसा आम मैंने पहले कभी नहीं खाया। आप सचमुच महान हैं। दयालु चिदानंद ने यह सुने और संत रामदास और संत रामेश्वर बहुत क्रोधित हुए।

उन्होंने कहा- हे पथिक! हमारे पेड़ के आम भी कम मीठे नहीं हैं । आप संत चिदानंद की अनावश्यक प्रशंसा करते हैं और हमारा अपमान करते हैं। आपका पक्षपातपूर्ण व्यवहार पूर्णतः अस्वीकार्य है।

भगवान विष्णु जी अपने मूल स्वरुप में आये  (Best Moral Hindi Story)

उसके बाद पथिक अपने मूल स्वरूप में आ गये। भगवान विष्णु स्वयं तीनों संतों के सामने प्रकट हुए। भगवान विष्णु ने कहा- हे मुनियों! मैंने आपकी सारी बातें सुनीं। मुझे आपकी विवेकशीलता का परीक्षण करने में रुचि है। और मैं पथिक के भेष में तुम्हारी पवित्रता की परीक्षा लेने आया था। मैं आपकी सेवा से संतुष्ट हूं।

लेकिन रामदास और रामेश्वर संत बनने के योग्य नहीं हैं। तुम्हारे हृदय में दया नहीं है। केवल ईर्ष्या और निंदा से भरा हुआ है। लेकिन संत दयालु चिदानंद में असीम दया और प्रेम है। वह पेड़ों को वैसे ही देखता है जैसे वह मनुष्य को देखता है। मैं सब के शरीर में विद्यमान हूं।

जब रामदास ने आम के पेड़ को बांस से पीटा  मेरे शरीर पर बहुत सारे घाव हो गये जिससे मुझे बहुत दर्द हुआ था। आम इतने मीठे नहीं लगे। उसी प्रकार मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे रामेश्वर मेरी गर्दन में रस्सी डालकर और आम के पेड़ को खींचकर मेरा गला घोंट रहा है। लेकिन फिर, जब साधु चिदानंद एक पेड़ पर चढ़ गए और मेरे लिए दो पके आम लाए, तो मेरे शरीर को कोई नुकसान नहीं हुआ। वह न तो लालची है और न ही हिंसक। पेड़ के प्रति उसका स्नेह और प्रेम अनंत है ।

दयालु चिदानंद की ऐसी सेवा से, मैं आपके द्वारा उत्पन्न सभी कष्टों को दूर करने में सक्षम हो गया। तब भगवान विष्णु ने कहा- केवल संत चिदानंद ही संत पद के पात्र हैं। सिर्फ संत शब्द लगा देने से कोई संत नहीं हो जाता। संत बनने के लिए सबसे पहले मन और हृदय में दया, प्रेम और सेवा भाव का होना जरूरी है, जो संत चिदानंद के शरीर में कूट-कूट कर भरा है।

इसलिये आज से संत दयालु चिदानंद  जिन्दगी भर  संत रहेंगे और आप दोनों संत दयालु चिदानंद के सेवक रहेंगे। यह सुनकर रामदास और रामेश्वर को अपनी गलती का एहसास हुआ। भगवान विष्णु ने उन्हें क्षमा प्रदान कर दी। उन्होंने प्रभु की शरण ली। अपने शेष जीवन में, संत चिदानंद ने दुनिया की भलाई के लिए काम किया।

 

इस कहानी की शिख – एक को  कष्ट देकर दुसरे को  ख़ुशी  नहीं दी जा सकती ।  हमेशा अपने मन में दया का भाव रखना चाहिए , तभी तुम अच्छे इन्सान बन पाओगे ।

यह भी पढ़ें . . .

उमीद करता हूँ की आप को यह कहानी अच्छी लगी होगी। इस कहानी को शेयर करें, फेसबुक पेज लाइक करें और कमेंट करें। Best Moral Hindi Storyसंतों की परीक्षा ” का सुबिचार जरुर रखें।

Continue Reading

Trending